असदुद्दीन ओवैसी के जहरीले बोल, ‘अयोध्या वाली मस्जिद में नमाज पढ़ना ‘हराम’, कोई चंदा भी न दे’

अयोध्‍या के धन्‍नीपुर में बनने वाली मस्जिद को इस्‍लाम के खिलाफ बताया, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बन रही मस्जिद पर ओवैसी के जहरीले बोल एक बार फिर विवादों में हैं।

अयोध्या में मस्जिद के खिलाफ एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने विवादास्पद बयान दिया है। ओवैसी ने अयोध्या में बन रही मस्जिद का विरोध करते हुए कहा कि अगर कोई अयोध्या में 5 एकड़ ज़मीन पर बन रही मस्जिद में नमाज पढ़ता है तो वह ‘हराम’ मानी जाएगी। ऐसी मस्जिद में नमाज़ पढ़ना और चंदा देना दोनों हराम है

अयोध्‍या के धन्‍नीपुर में बनने वाली मस्जिद को इस्‍लाम के खिलाफ बताया, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बन रही मस्जिद पर ओवैसी के जहरीले बोल एक बार फिर विवादों में हैं। मस्जिद ट्रस्‍ट ने ओवैसी पर पलटवार किया है, अयोध्‍या मस्जिद ट्रस्‍ट के सचिव अतहर हुसैन ने इसे ओवैसी के राजनीतिक एजेंडे से जुड़ा बयान बताया। 

बाबरी मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद अयोध्या में बनाई जाने वाली प्रस्तावित मस्जिद का नाम अंग्रेजों के खिलाफ 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में योगदान देने वाले मौलवी अहमदुल्ला शाह के नाम पर हो सकता है।

मस्जिद निर्माण की देखरेख के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड द्वारा गठित न्यास इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन के सचिव अतहर हुसैन ने कहा कि अवध क्षेत्र में ‘विद्रोह का बिगुल फूंकने वाले’’ शाह के नाम पर मस्जिद का नाम रखने के बारे में गंभीरता से विचार किया जा रहा है।

न्यास का गठन होने के बाद इस बारे में चर्चा चली थी कि मस्जिद का नाम मुगल शासक बाबर के नाम पर रखा जाएगा जैसा कि बाबरी मस्जिद का रखा गया था या फिर किसी और नाम पर विचार किया जाएगा। 

न्यास के सूत्रों के मुताबिक अयोध्या में बनने वाली मस्जिद की परियोजना को सांप्रदायिक भाईचारे तथा देशभक्ति के संकेत के रूप में प्रस्तुत करने के लिए न्यास ने इस परियोजना को शाह के प्रति समर्पित करने का फैसला लिया है, जो इन मूल्यों का प्रतिनिधित्व करने के साथ-साथ इस्लाम के सच्चे अनुयायी भी थे।

You missed