पश्चिम बंगाल में चुनावी माहौल गर्माता जा रहा है जिसमें पार्टियों का एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोपों का सिलसिला जारी है और टीएमसी के नेता एक-एक करके बीजेपी में शामिल हो रहे हैं। हालांकि, मामला और गंभीर हो गया जब राज्य में तृणमूल कांग्रेस की रैली के दौरान, ‘गोली मारो’ जैसे नारे सुनाई दिए। बुधवार को, पश्चिम बंगाल के हुगली जिले में एक रोडशो में शामिल होने वाले बीजेपी समर्थकों ने नारा दिया – ‘देश के गद्दारों को, गोली मारो …’। रोडशो का नेतृत्व हुगली के सांसद लॉकेट चटर्जी और टीएमसी से बीजेपी में आए शुभेंदु अधिकारी ने किया था।

पश्चिम बंगाल में चुनावी माहौल गर्माता जा रहा है जिसमें पार्टियों का एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोपों का सिलसिला जारी है और टीएमसी के नेता एक-एक करके बीजेपी में शामिल हो रहे हैं। हालांकि, मामला और गंभीर हो गया जब राज्य में तृणमूल कांग्रेस की रैली के दौरान, ‘गोली मारो’ जैसे नारे सुनाई दिए। बुधवार को, पश्चिम बंगाल के हुगली जिले में एक रोडशो में शामिल होने वाले बीजेपी समर्थकों ने नारा दिया – ‘देश के गद्दारों को, गोली मारो …’। रोडशो का नेतृत्व हुगली के सांसद लॉकेट चटर्जी और टीएमसी से बीजेपी में आए शुभेंदु अधिकारी ने किया था।

इससे पहले, तृणमूल समर्थकों ने मंगलवार को कोलकाता में एक पार्टी जुलूस में ‘बंगाल के गद्दारो को गोली मारो’ जैसे नारे लगाए। जुलूस से सामने आए वीडियो में, कोलकाता की सड़कों पर मार्च करते हुए भीड़ तृणमूल पार्टी के झंडे उठाते हुए नारे लगाते हुए दिखाई दे रही है।

जबकि तृणमूल प्रमुख ममता बनर्जी अक्सर बीजेपी को ‘बाहरी’ कहते हुए आरोप लगाती दिखती हैं कि वे ‘बंगाली संस्कृति, लोगों आदि को नहीं जानती’, बीजेपी ने दावा किया है कि ममता ‘राष्ट्र विरोधी’ हैं। TMC और BJP, दोनों बंगाली आइकॉन – स्वामी विवेकानंद, नेताजी सुभाष चंद्र बोस और ईश्वरचंद्र विद्यासागर, चैतन्य महाप्रभु, आदि पर लड़े हैं।  

बता दें कि ‘गद्दारों को गोली मारो’ का नारा बदनाम है, जिसका इस्तेमाल दिल्ली दंगों से पहले MoS अनुराग ठाकुर से जुड़ी रैली में किया गया था।

पश्चिम बंगाल में तृणमूल बनाम बीजेपी 

जबकि बीजेपी ने पश्चिम बंगाल विधानसभा के आगामी चुनावों के लिए एक बड़ी योजना बनाई है जिसमें गृह मंत्री अमित शाह हर महीने चुनाव तक राज्य जाएंगे, तृणमूल ने ममता बनर्जी सरकार की कल्याणकारी योजनाओं पर प्रकाश डालते हुए अपने आउटरीच कार्यक्रम की शुरुआत कर दी है। ममता के दोबारा चुनाव के लिए टीएमसी ने पूर्व जेडीयू वीपी और चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर को भी काम पर रखा है, जबकि बीजेपी का प्रचार बीजेपी प्रमुख जेपी नड्डा के नेतृत्व में कैलाश विजयवर्गीय द्वारा किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed