आइजैक हर्जोग (Isaac Herzog) ने इजरायल (Israel) के राष्ट्रपति के तौर पर शपथ लेते हुए कहा कि उनका मिशन देश के सभी नागरिकों की सेवा करना है.

आइजैक हर्जोग ने इजरायल के राष्ट्रपति के रूप में ली शपथ, कहा- सभी नागरिकों की सेवा करना है मिशन

इजरायल के नए राष्ट्रपति आइजैक हर्जोग (AFP)

आइजैक हर्जोग (Isaac Herzog) ने इजरायल (Israel) के 11वें राष्ट्रपति के तौर पर शपथ ली. इस दौरान उन्होंने इजरायली समाज में गहरे विभाजन को ठीक करने का संकल्प भी लिया. इजरायली संसद में एक हाथ में तोराह को लिए हुए 60 वर्षीय हर्जोग ने बुधवार को राष्ट्रपति पद की शपथ ली. हर्जोग ने सभी इजरायलियों का राष्ट्रपति होने का वादा किया. अपने शपथग्रहण के दौरान दिए भाषण में हर्जोग ने कहा, मेरा मिशन, मेरे कार्यकाल का मिशन, आशा के पुनर्निर्माण के लिए सब कुछ करना है. हर्जोग इजरायल की लेबर पार्टी के पूर्व अध्यक्ष और विपक्ष के नेता हैं.

राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण समारोह आमतौर पर बहुत धूमधाम के साथ आयोजित किया जाता है. इस बार भी संसद चैंबर को चारों ओर सफेद गेंदे के गुलदस्ते से सजाया गया था. जैसे ही समारोह आगे बढ़ी तो हॉर्न बजाकर उनका स्वागत किया गया और फिर एक संगीत कार्यक्रम हुआ. इसके बाद इजरायल का राष्ट्रगान गाया गया. हर्जोग रूवेन रिवलिन (Reuven Rivlin) की जगह ली है, जिन्होंने पिछले सात वर्षों तक राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया था. देश के शीर्ष पद पर हर्जोग की नियुक्ति उनके राजनीतिक करियर में एक बड़ी उपलब्धि है. उन्हें सात साल के कार्यकाल के लिए नियुक्त किया गया है.

नए राष्ट्रपति ने बताया क्या है उनका मिशन?

इजरायल के राष्ट्रपति के रूप में अपने पहले भाषण में, हर्जोग ने इजरायल के नागरिकों की सेवा करने के प्रति प्रतिबद्धता जताई. उन्होंने कहा कि इजरायल की राजनीति में और अधिक उदारवादी स्वर की जरूरत है और इजरायली समाज को विभाजित और ध्रुवीकरण करने वाले उकसावे को रोकने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि मेरा मिशन, मेरे कार्यकाल का कार्य, समाज के लिए आशा के पुनर्निर्माण के लिए होगा. हर्जोग इजरायल के छठे राष्ट्रपति चैम हर्जोग (Chaim Herzog) के बेटे हैं. चैम हर्जोग ने इजरायल की ओर से संयुक्त राष्ट्र (United Nations) में एक राजदूत के रूप में भी सेवा दी.

रिवलिन ने हर्जोग के लिए लिखा पत्र

इस हफ्ते की शुरुआत में, रिवलिन ने नवनिर्वाचित राष्ट्रपति को लिखे एक पत्र में कहा, सच्चाई यह है कि मुझे आपसे थोड़ी जलन हो रही है. उन्होंने राष्ट्रपति बनने को इजरायल के सभी समुदायों- यहूदी और अरब, धार्मिक और धर्मनिरपेक्ष, युवा और बूढ़े लोगों की सेवा करने को एक महान और अद्भुत विशेषाधिकार बताया. हर्जोग को पिछले महीने राष्ट्रपति पद के लिए संसद द्वारा चुना गया. उन्होंने पहले लेबर पार्टी के प्रमुख के तौर पर अपनी सेवा दी है. इसके अलावा वह संसद में विपक्ष के नेता भी रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed