इस्लामिक देशों के संगठन (OIC) ने कश्मीर मुद्दे और भारत में मुसलमानों की स्थिति पर सऊदी अरब में भारतीय राजदूत औसाफ सईद (Ausaf Saeed) से मुलाकात की है.

पाक की 'नापाक चाल'! कश्मीर मुद्दे पर OIC को बहकाया, अब मुस्लिम देशों के इस संगठन ने भी मारी 'विवाद' में एंट्री

OIC देशों का समूह

पाकिस्तान (Pakistan) कश्मीर मुद्दे पर दुनिया को अपने पक्ष में करने के लिए तरह-तरह की चालें चलता रहता है. एक बार फिर उसने कुछ ऐसा ही किया है. दरअसल, पाकिस्तान के अनुरोध पर इस्लामिक देशों के संगठन (OIC) ने कश्मीर संघर्ष (Kashmir Issue) और भारत में मुसलमानों के मुद्दे में कूद पड़ा है. OIC के प्रमुख ने सऊदी अरब में भारतीय राजदूत के साथ एक बैठक की. इस मुलाकात में भारतीय मुसलमानों का मुद्दा उठाया गया और एक प्रतिनिधिमंडल को भारत भेजने की पेशकश की गई. इसके अलावा, भारत और पाकिस्तान के बीच बैठक की आह्वान किया गया.

OIC ने एक बयान जारी कर कहा कि भारतीय राजदूत औसाफ सईद (Ausaf Saeed) ने 5 जुलाई को जेद्दाह (Jeddah) में OIC के महासचिव युसूफ अल-ओथैमीन (Yusuf Al-Othaimeen) के साथ एक शिष्टाचार बैठक की. बयान में कहा गया कि OIC महासचिव ने भारतीय राजदूत सईद से मुलाकात के दौरान भारत में मुसलमानों की कथित रूप से चिंताजनक हालात और जम्मू-कश्मीर में जारी संघर्ष की समीक्षा की.

मुलाकात को लेकर भारतीय दूतावास से नहीं आया कोई बयान

भारतीय राजदूत का OIC महासचिव से मिलना अपने आप में बहुत ही असामान्य बात है. इस संबंध में अभी तक भारतीय दूतावास (Indian Embassy) या विदेश मंत्रालय (Ministry of Foreign Affairs) की ओर से कोई बयान नहीं आया है. दो साल पहले तत्कालीन भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने OIC की बैठक में शिरकत की थी. UAE ने इस बैठक में भारत को आमंत्रित किया था. इसे भारत के लिए एक बड़ी कूटनीतिक जीत माना गया. इसके विरोध में पाकिस्तान ने मार्च 2019 में हुई विदेश मंत्रियों की बैठक का बहिष्कार किया. इस घटना के बाद भारत को निमंत्रण नहीं मिला.

कश्मीर पर पहले भी बैठक कर चुका है OIC

गौरतलब है कि पिछले साल जून में OIC ने कश्मीर पर एक आपात बैठक की थी. जम्मू और कश्मीर के संबंध में 1994 में गठित OIC संपर्क समूह की विदेश मंत्रियों की बैठक में भारत के संबंध में कई प्रस्तावों को अपनाया गया था. अजरबैजान, नाइजीरिया, पाकिस्तान, सऊदी अरब और तुर्की ने OIC संपर्क समूह के विदेश मंत्रियों की आपात बैठक में भाग लिया. OIC के महासचिव डॉ युसूफ अल-ओथैमीन ने कहा कि OIC इस्लामिक शिखर सम्मेलन, विदेश मंत्रियों की परिषद और अंतरराष्ट्रीय कानून के अनुसार जम्मू और कश्मीर मुद्दे के शांतिपूर्ण समाधान के लिए प्रतिबद्ध है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed